Sharad Purnima 2023: शरद पूर्णिमा पर इस बार रहेगा चंद्र ग्रहण का साया, ऐसे में खीर कैसे बनायें और उसे चंद्रमा की रोशनी में कब रखें?

ब्रह्मवाक्य, डेस्क। शरद पूर्णिमा पर इस बार चंद्र ग्रहण का साया रहेगा। 28 अक्टूबर शनिवार को शरद पूर्णिमा की देर रात 01:06 बजे चंद्र ग्रहण शुरू हो जायेगा, जो मध्य रात्रि 02:22 बजे समाप्त होगा। वहीं सूतक काल 9 घंटे पूर्व ही प्रारंभ हो जाएगा। ऐसे में सवाल यह उठता है कि शरद पूर्णिमा के अवसर पर खुले आसमान के नीचे खीर कब रखेंगे? क्योंकि सूतक काल तो अशुद्ध माना जाता है। इस वजह से सूतक काल में कोई शुभ कार्य, भोजन बनाना, भोजन करना सहित अन्य काम वर्जित होते हैं। ऐसे में आइये जानते है कि शरद पूर्णिमा के अवसर पर खीर बनाने और उसे चंद्रमा की रोशनी में कब रखें?

ज्योतिषाचार्य के मुताबिक शरद पूर्णिमा तिथि 28 अक्टूबर, शनिवार, प्रात: 04:17 बजे से प्रारंभ होगी। जबकि शरद पूर्णिमा तिथि का समापन: 29 अक्टूबर, रविवार रात 01:53 बजे होगा। जबकि साल का अंतिम चंद्र ग्रहण 28 अक्टूबर, देर रात 01:06 बजे प्रारंभ होगा। जबकि चंद्र ग्रहण समापन समय: 28 अक्टूबर, मध्य रात्रि 02:22 बजे होगा वहीं सूतक काल का 28 अक्टूबर, दोपहर 02:52 बजे से रात्रि 02:22 बजे तक रहेगा।

शरद पूर्णिमा चंद्रमा की रोशनी में खीर रखने का सही समय
ज्योतिषचार्य के अनुसार, शरद पूर्णिमा की खीर 27 अक्टूबर शुक्रवार की रात यानी चतुर्दशी की रात में बना लें और फिर 28 अक्टूबर को जब प्रात: 04:17 बजे शरद पूर्णिमा की तिथि शुरू हो तो उस समय खीर को चंद्रमा की रोशनी में रख दें। उस दिन चंद्रास्त प्रात: 04:42 पर होगा, जिसके बाद उस खीर को खा सकते हैं। इसके अलावा दूसरा विकल्प यह है कि 28 अक्टूबर के मध्य रात्रि जब चंद्र ग्रहण समाप्त हो जाए तब खीर बनाएं और फिर उसे उसे खुले आसमान के नीचे रख दें, जिससे कि उसमें चंद्रमा की रोशनी पड़ जाये इसके बाद उस खीर को खा सकते हैं।

शरद पूर्णिमा में खीर का महत्व
धार्मिक मान्यता है कि, शरद पूर्णिमा की रात चंद्रमा अपनी 16 कलाओं से परिपूर्ण होता है। जिसकी वजह से उसकी किरणों में अमृत के समान औषधीय गुण होते हैं। शरद पूर्णिमा की रात जब खीर को खुले आसमान के नीचे रख देते हैं तो उसमें चंद्रमा की किरणें पड़ती हैं, जिससे खीर में औषधीय गुण आ जाते हैं। जिसके सेवन से स्वास्थ्य लाभ होने के साथ ही चंद्र दोष निवारण भी होता है।

BM Dwivedi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button